Wednesday 9 November 2011

उनके पुत्र की चाहत थी...कार्टून धमाका !

श्री शिवम् मिश्रा ने मुझसे अपना  एक कार्टून बनाने का आग्रह किया..सच कहूं तो कार्टून बनाना ही मेरा  पेशा है पर घोड़ा घास से दोस्ती नहीं करता..लेकिन शिवमजी ने जब बताया की उनके पांच साल के बेटे की ये चाहत है की उसके पापा का भी एक कार्टून स्केच  मैं बनाऊं तो बस..यही बात मेरे दिल को छू गयी..एक बच्चे का दिल मैं कैसे तोड़ देता ? मैंने फिर पूरे मन से उनका कार्टून बनाया ..बाद में शिवमजी ने बताया उनके बेटे को बहुत ख़ुशी हुई और कार्टून पसंद  आया  ..इस  तरह  शिवमजी का कार्टून भी बन गया और.. उनके पुत्र को ख़ुशी देकर मुझे अपनी मेहनत का दोगुना पारश्रमिक भी प्राप्त हो गया ..!
                                                   
                                                     श्री शिवम मिश्रा का कार्टून
 


                                                      आपकी एक टिपण्णी की आशा है
                                                                
                                                ********************************

4 comments:

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

बहुत बढ़िया स्केच बनाया है आपने शिवम् जी का ....
सच में बच्चों की ख़ुशी से बढ़कर कुछ नहीं...

शिवम् मिश्रा said...

काश कि आप यहाँ होते जब कार्तिक ने पहली बार मेरा कार्टून देखा ... उसके चहरे की वो चमक और उसकी वो ख़ुशी मैं शब्दों में नहीं बता सकता आपको ... फिलहाल यह कार्टून एक फ्रेम में लगा हुआ उसके बिस्तर के ठीक सामने लगा दिया गया है ... मुझे और मेरे कार्तिक को यह ख़ास पल देने के लिए आपका और सैम का बहुत बहुत धन्यवाद !

Kajal Kumar said...

वाह बहुत बढ़िया

ajit gupta said...

लेकिन इनके चेहरे से बडा इनका लेपटाप है। बढिया कार्टून।